ads

एक बार फिर सामने आया धर्मेन्द्र के दिल का दर्द, कहा-उम्र भर... मैं सहता आया

मुंबई। वेटरन एक्टर धर्मेन्द्र ने एक बार फिर अपने हाले दिल को फैंस के साथ साझा किया है। इस बार एक्टर ने सोशल मीडिया पर ऐसी लाइंस लिखी हैं कि फैंस चिंतित हो गए हैं और उन्हें इमोशनल सपोर्ट दे रहे हैं। ऐसा पहली बार नहीं है कि धर्मेन्द्र ने अपनी दिल को जनता के सामने खोला हो, इससे पहले भी अभिनेता खुलकर अपनी भावनाओं को व्यक्त कर चुके हैं। आइए जानते हैं उन्होंने क्या लिखा और कैसे फैंस हो गए परेशान:

'मैं... सहता गया... सहता ही गया...'
दरअसल, शनिवार सुबह धर्मेन्द्र ने ट्विटर पर दिल टूटने पर एक कविता शेयर की। इसमें लिखा था,'शाउर न आया सादगी को मेरी... उम्र भर... मैं... सहता गया... सहता ही गया...।' इसके साथ एक्टर ने खुद की एक ब्लैक एंड वॉइट तस्वीर भी शेयर की। धर्मेन्द्र की शेयर इन लाइंस से कुछ फैंस चिंता में पड़ गए। कुछ ने उनकी इस तरह की शायरी के पीछे की वजह पूछी। कुछ अन्य ने शायरी के बदले शायरी में जवाब दिया।

यह भी पढ़ें : Dharmendra ने फॉर्महाउस पर काम कर रहे लोगों संग की खूब मस्ती, बोले- 'कोई छोटा बड़ा नहीं होता'

dharmedra_tweet.png

'दे के दर्द चलते बने'
सरबजीत नाम के एक यूजर ने धर्मेन्द्र के ट्वीट के जवाब में लिखा,' अपनों ने बैगाना बनाया, और से मैंने प्यार पाया।' इसके रिप्लाई में धर्मेन्द्र ने लिखा,'ऐसा क्यों होता है सरबजीत... चलते चलते चाहत पली.. दे के दर्द चलते बने।' इस पर सरबजीत ने लिखा,'सब उपर वाले का खेल है सर, दर्द भी वही और दवा भी वही, मर्ज भी वही और दवा भी वही।' इनके अलाव कुछ फैंस ने धर्मेन्द्र की सादगी की जमकर तारीफ की। कमेंट्स में ऐसे यूजर्स की भरमार रही, जो किसान आंदोलन पर अभिनेता के नहीं बोलने को लेकर उनकी मजबूरी समझने का दावा कर रहे थे।

यह भी पढ़ें : Dharmendra की वजह से Amitabh Bachchan को मिला था इस फिल्म में बड़ा रोल, सालों बाद भरी थी हामी

किसान आंदोलन पर दिया था अपना रिएक्शन
फरवरी माह में भी धर्मेन्द्र ने एक ट्वीट के जवाब में ऐसे ही सादगी से अपने दिल की बात कही थी। दरअसल, हुआ यूं था कि एक यूजर ने धर्मेन्द्र की फोटोज के कॉलोज से एक वीडियो बनाकर शेयर किया। इस पर रिप्लाई करते हुए एक्टर ने लिखा था,'सुमाइला, इस बेजा चाहत का हकदार... मैं नहीं...मासूमियत है आप सब की...हंसता हूं हंसाता... हूं ...मगर...उदास रहता हूं...इस उमर में कर के बेदाखिल...मुझे मेरी धरती से...दे दिया सदमा...मुझे मेरे अपनों ने।' इसके जवाब में एक यूजर ने आंदोलनरत किसानों की फोटोज शेयर की और इसके साथ लिखा,'ये थे आप के अपने...जो अपने हक के लिए अभी भी लड़ रहे हैं और रोज कई मर रहे हैं..पर अफसोस आज आपके अपने ...ये नहीं कोई और हैं।' इस पर धर्मेन्द ने जवाब देते हुए लिखा था,'यह बहुत ही दुखदायी है। आप नहीं जानते हम ने सेंटर में किस-किस से क्या-क्या कहा है, मगर बात नहीं बनी। बहुत दुखी हूं मैं। दुआ करता हूं कोई हल जल्दी निकल आए। टेक केयर, लव यू आल।' इसी ट्वीट के रिप्लाई में एक यूजर ने लिखा,'अंकल जी, पैरी पोना, हम भी तो आपके अपने हैं, प्लीज उदास मत होइए, आप की बहुत याद आती है।'



Source एक बार फिर सामने आया धर्मेन्द्र के दिल का दर्द, कहा-उम्र भर... मैं सहता आया
https://ift.tt/3qJEvnw

Post a Comment

0 Comments